विद्युत धारा किसे कहते हैं इसका मात्रक क्या है? – पूरी जानकारी

विद्युत धारा किसे कहते हैं: आज के इस पोस्ट में हम विद्युत धारा (Electric Current in Hindi) के बारे में पढ़ेंगे। इस पोस्ट में विद्युत धारा किसे कहते हैं?, विद्युत धारा की परिभाषा क्या है, विद्युत धारा का एस आई मात्रक क्या है, vidyut dhara ki paribhasha, vidyut dhara ka matrak kya hai, vidyut dhara ka sutra आदि के बारे में बताया गया है।

विद्युत धारा किसे कहते हैं इसका मात्रक क्या है?

विद्युत धारा किसे कहते हैं इसका मात्रक क्या है? | Vidyut Dhara Kise Kahate Hain

विद्युत धारा की परिभाषा: किसी चालक में प्रति सेकंड में प्रवाहित आवेश की मात्रा विद्युत धारा कहलाती है।

विद्युत धारा का सूत्र

माना चालक में (t) सेकंड में प्रवाहित आवेश (q) है, तो 

विद्युत धारा = आवेश/समय 

[ I = q/t ]

विद्युत धारा को ” i ” से प्रदर्शित करते हैं।

[ q = ne ]     i = ne/t 

जहां e इलेक्ट्रॉन का आवेश है, e = 1.6 × 10-¹⁹ कुलाम 

विद्युत धारा का मात्रक

विद्युत धारा का मात्रक “एम्पियर” होता है।

1 एम्पियर = 1 कुलाम/सेकंड 

विद्युत धारा की विमा

विद्युत धारा की विमा “A1″ होती है।

विद्युत धारा के प्रकार 

विद्युत धारा 2 प्रकार की होती है।

(1) दिष्ट धारा -DC

(2) प्रत्यावर्ती धारा – AC

दिष्ट धारा (Direct Current – DC): वह विद्युत धारा जिसकी समय के साथ – साथ परिमाण और दिशा नहीं बदलती है, दिष्ट धारा कहलाती है। सेल या बैटरी से प्राप्त धारा दिष्ट धारा के उदाहरण हैं।

Disht dhara kise kahate hain

प्रत्यावर्ती धारा (Alternating Current – AC): परिपथ में बहने वाली वह धारा जो समय के साथ – साथ परिमाण और दिशा में आवर्त रूप से बदलती रहती है, प्रत्यावर्ती धारा कहलाती है। जैसे – बल्ब, हीटर, पंखा आदि में इसका उपयोग होता है।

Pratyavarti dhara kise kahate hain

विद्युत धारा की दिशा | विद्युत धारा किसे कहते हैं

प्रारम्भिक अवधारणा के अनुसार विद्युत धारा की दिशा धन (+) वस्तु के ऋण (-) वस्तु की ओर होती है लेकिन इलैक्ट्रॉन्स की खोज व परमाणु संरचना ज्ञात हो जाने के बाद यह पता चला कि जिस वस्तु के परमाणु कुछ इलैक्ट्रॉन्स त्याग देते हैं, वह वस्तु धनावेशित कहलाती है।

इसी प्रकार, जिस वस्तु के परमाणु कुछ इलैक्ट्रॉन्स ग्रहण कर लेते हैं वह वस्तु ऋणावेशित कहलाती है अर्थात् मुक्त इलैक्ट्रॉन्स की बहुलता वाली वस्तु ऋणावेशित एवं इनकी कमी वाली वस्तु, धनावेशित वस्तु होती है।

जिस वस्तु के पास मुक्त इलैक्ट्रॉन्स की बहुलता है, वही दूसरी मुक्त इलैक्ट्रॉन्स की कमी वाली वस्तु को मुक्त इलैक्ट्रॉन्स दे सका है। अतः इलैक्ट्रॉन्स के बहाव की दिशा ऋण वस्तु से धन वस्तु की ओर होती है।

अतः धन आवेश का प्रवाह उच्च विभव से निम्न विभव की ओर होता है तथा धारा का प्रवाह भी उच्च विभव से निम्न विभव की ओर होता है अतः हम कह सकते है की धन आवेश तथा धारा की दिशा एक ही होती है धन (+) वस्तु के ऋण (-) वस्तु की ओर।
 
ऋण आवेश का प्रवाह निम्न विभव से उच्च विभव की ओर होता है। अतः हम कह सकते हैं की ऋण आवेश (इलेक्ट्रॉन) का प्रवाह धारा की दिशा के विपरीत होता है।

एक ऐम्पीयर की परिभाषा 

यदि Q = 1 कूलॉम व t = 1 सैकण्ड 

[ 1 ऐम्पीयर = 1 कुलाम/ 1 सैकण्ड ]

“ यदि किसी विद्युत परिपथ में किसी बिन्दु से 1 सैकण्ड में 1 कूलॉम आवेश प्रवाहित होता हैं, उसे एक ऐम्पीयर कहते हैं।”

FAQ

Q. विद्युत धारा किसे कहते हैं इसका मात्रक क्या है?

Ans. किसी चालक में प्रति सेकंड में प्रवाहित आवेश की मात्रा विद्युत धारा कहलाती है।

विद्युत धारा का मात्रक एम्पियर होता है।

Q. विद्युत की परिभाषा क्या है?

Ans. किसी चालक में विद्युत आवेशों के बहाव से उत्पन्न उर्जा को विद्युत कहते हैं।

Q. करंट की चाल कितनी होती है?

Ans. करंट की गति 299,792,458 मीटर प्रति सेकेण्ड होती है।

Q. विद्युत धारा कैसे उत्पन्न होती है?

Ans. किसी सेल के भीतर होने वाली रासायनिक अभिक्रिया सेल के टर्मिनलों के बीच विभवांतर उत्पन्न करती है, ऐसा उस समय भी होता है जब सेल से कोई विद्युत धारा नहीं ली जाती।

जब सेल को किसी चालक परिपथ अवयव से संयोजित करते हैं तो विभवांतर उस चालक के आवेशों में गति ला देता है और विद्युत धारा उत्पन्न हो जाती है।

विद्युत धारा किसे कहते हैं इसका मात्रक क्या है? – Video Guide

Conclusion

उम्मीद करते हैं आपको हमारी यह पोस्ट Vidyut Dhara Kise Kahate Hain (विद्युत धारा किसे कहते हैं), Vidyut Dhara kya hai, विद्युत धारा का मात्रक पसंद आई होगी अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें।

यह भी पढ़ें :

Check Also

अयस्क क्या है तथा अयस्क किसे कहते हैं? (Ores in Hindi)

अयस्क क्या है: आज के इस पोस्ट में हम अयस्क के बारे में पढ़ेंगे जैसे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *