Vakya Kise Kahate Hain | अर्थ के आधार पर वाक्य के भेद

हिंदी व्याकरण की इस सीरीज में Vakya Kise Kahate Hain , अर्थ के आधार पर वाक्य के भेद को उदाहरण सहित बिलकुल ही आसान तरीके से सीखेंगे और साथ ही साथ इससे आधारित प्रश्न और उत्तर इस पोस्ट Vakya Kya Hai Aur Uske Bhed के नीचे दिए गए हैं उन्हें भी जरूर पढ़ें।

vakya kise kahate hain

Vakya Kise Kahate Hain | वाक्य क्या है

वाक्य की परिभाषा : ऐसे शब्द समूह जिससे पूरी बात समझ में आ जाये, वाक्य कहलाते हैं।

वाक्य के अंग

वाक्य के 2 अंग होते हैं –

1. उद्देश्य (Subject) :

वाक्य में जिसके बारे में कुछ कहा जाये उसे उद्देश्य कहते हैं। 

जैसे-

  • गीता खत पढ़ती है।
  • सचिन दौड़ता है। 

2. विद्येय (Predicate) :

उद्देश्य के बारे में जो कुछ कहा जाता है, उसे विद्येय कहते हैं।
जैसे-

पूनम किताब पढ़ती है।
इस वाक्य में किताब पढ़ती है विधेय है क्योंकि पूनम (उद्देश्य) के बारे में कहा गया है।

क्रिया किसे कहते हैं

वाक्य के कितने भेद होते हैं | वाक्य के प्रकार

वाक्य के 2 भेद होते हैं –

  1. रचना के आधार पर वाक्य के भेद 
  2. अर्थ के आधार पर वाक्य के भेद

रचना के आधार पर वाक्य के भेद

रचना के आधार पर वाक्य के 3 भेद होते हैं –

  1. साधरण वाक्य या सरल वाक्य
  2. मिश्रित वाक्य
  3. संयुक्त वाक्य

साधरण वाक्य या सरल वाक्य :

जिन वाक्य में एक ही क्रिया होती है, और एक कर्ता होता है अर्थात केवल एक ही उद्देश्य और एक ही विधेय होता है, उन्हें साधारण वाक्य वाक्य कहते हैं।

जैसे-

‘बिजली चमकती है’, ‘पानी बरसा’ ।

मिश्रित वाक्य :

जिस वाक्य में मुख्य उद्देश्य और मुख्य विधेय के अलावा एक या अधिक समापिका क्रियाएँ हों, उसे मिश्रित वाक्य कहते हैं। 

जैसे –

वह कार्य हो गया है जिसे करने के लिए आपने कहा था।

ज्यों ही वह बाहर गया, बारिश होने लगी।

संयुक्त वाक्य :

जिन वाक्यों में दो या दो से अधिक सरल वाक्य योजकों (और, एवं, तथा, या, अथवा, इसलिए, अतः, फिर भी, तो, नहीं तो, किन्तु, परन्तु, लेकिन, पर आदि) से जुड़े हों, उन्हें संयुक्त वाक्य कहते हैं। 
जैसे-

मैं सुबह गया और शाम को लौट आया।

प्रिय बोलो पर असत्य नहीं।

उसने बहुत मेहनत की लेकिन सफलता नहीं मिली।

Arth Ke Adhar Par Vakya Ke Bhed

अर्थ के आधार पर वाक्य के भेद 8 हैं जो निम्न प्रकार हैं –

  1. सरल वाक्य
  2. निषेधात्मक वाक्य
  3. प्रश्नवाचक वाक्य
  4. आज्ञावाचक वाक्य
  5. संकेतवाचक वाक्य
  6. विस्मयादिबोधक वाक्य
  7. विधानवाचक वाक्य
  8. इच्छावाचक वाक्य

सरल Vakya Kise Kahate Hain

ऐसे वाक्य जिनमे कोई बात आसान तरीके से कही जाती है, सरल वाक्य कहलाते हैं।

जैसे-

राम ने बाली को मारा।

राधा खाना बना रही है।

निषेधात्मक वाक्य

जिन वाक्यों में किसी काम के न होने या न करने का बोध हो उसे निषेधात्मक वाक्य कहते हैं।

जैसे-

आज वर्षा नही होगी।

मैं आज घर जाऊॅंगा।

प्रश्नवाचक वाक्य

ऐसे वाक्य जिनमें सवाल पूछने का भाव प्रकट हो, प्रश्नवाचक वाक्य कहलाते हैं।

जैसे-

 राम ने मोहन को क्यों मारा?

तुम कहाँ पढ़ते हो ?

आज्ञावाचक वाक्य

जिन वाक्यों से आज्ञा, प्रार्थना, उपदेश आदि का ज्ञान होता है, उन्हें आज्ञावाचक वाक्य कहते हैं।

जैसे-

वर्षा होने पर ही फसल होगी।

मेहनत करोगे तो फल मिलेगा ही।

बड़ों का सम्मान करो।

संकेतवाचक वाक्य

जिन वाक्यों से (संकेत) का बोध होता है यानी एक क्रिया का होना दूसरी क्रिया पर निर्भर होता है, उन्हें संकेतवाचक वाक्य कहते हैं।

जैसे-

अगर मेहनत करोगे तो अवश्य सफल होंगे।

पिताजी अभी आते तो अच्छा होता।

अगर वर्षा होगी तो फसल भी होगी।

विस्मयादिबोधक वाक्य

जिन वाक्यों में आश्चर्य, शोक, घृणा आदि का भाव हो उन्हें विस्मयादिबोधक वाक्य कहते हैं।

जैसे-

वाह ! तुम आ गये।

हाय ! मैं लूट गया।

विधानवाचक वाक्य

जिन वाक्यों में क्रिया के करने या होने की सूचना मिले, उन्हें विधानवाचक वाक्य कहते हैं।

जैसे-

मैंने दूध पिया।

वर्षा हो रही है।

वह पढ़ रहा है।

इच्छावाचक वाक्य

जिन वाक्यों से इच्छा, आशीष और शुभकामना आदि का ज्ञान होता है, उन्हें इच्छावाचक वाक्य कहते हैं।

जैसे-

तुम्हारा भला हो।

आज तो मैं सिर्फ फल खाऊँगा।

भगवान तुम्हें लंबी उमर दे।

वाक्य से सम्बन्धित प्रश्न और उत्तर –

वाक्य किसे कहते हैं यह कितने प्रकार के होते हैं?

ऐसे शब्द समूह जिससे पूरी बात समझ में आ जाये, वाक्य कहलाते हैं।
वाक्य के 2 भेद होते हैं –
1. रचना के आधार पर वाक्य के प्रकार
2. अर्थ के आधार पर वाक्य के प्रकार

वाक्य किसे कहते हैं वाक्य के कितने अंग होते हैं?

वाक्य के 2 अंग होते हैं –
1. उद्देश्य (Subject)
2. विद्येय (Predicate)

सरल वाक्य क्या होते हैं?

ऐसे वाक्य जिनमे कोई बात आसान तरीके से कही जाती है, सरल वाक्य कहलाते हैं।
जैसे-
राम ने बाली को मारा।

मिश्रित वाक्य कौन से होते हैं?

जिस वाक्य में मुख्य उद्देश्य और मुख्य विधेय के अलावा एक या अधिक समापिका क्रियाएँ हों, उसे मिश्रित वाक्य कहते हैं। 
जैसे –
वह कार्य हो गया है जिसे करने के लिए आपने कहा था।

यह भी पढ़ें :

Check Also

vyanjan kise kahate hain bhed prakar

Vyanjan Kise Kahate Hain | व्यंजन के कितने भेद होते हैं?

Vyanjan Kise Kahate Hain, व्यंजन के कितने भेद होते हैं, Vyanjan Kise Kahate Hain in …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *