पोषण किसे कहते हैं पोषण के प्रकार लिखिए – (Nutrition in Hindi)

पोषण किसे कहते हैं: आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे कि पोषण है क्या ? (What is Nutrition in Hindi), पोषण कितने प्रकार का होता हैं

पोषण किसे कहते हैं, पोषण क्या है, Poshan in Hindi

पोषण किसे कहते हैं, पोषण क्या है (Nutrition in Hindi)

पोषण की परिभाषा: ऐसे पोषक पदार्थ जो शारीरिक ऊतकों द्वारा अवशोषित होकर जैविक आक्सीकरण द्वारा जैविक कार्यों हेतु ऊर्जा प्रदान करते हैं वे पोषक पदार्थ कहलाते हैं।

 भोज्य पदार्थों में कार्बोहाइड्रेट्स, वसाएं (चर्बी), प्रोटीन, खनिज लवण, विटामिन तथा जल आदि अनेक पोषक तत्व होते हैं।

जीवों द्वारा भोज्य पदार्थों से इन पोषक तत्वों को प्राप्त करने की क्रिया को पोषण (Nutrition) कहते हैं।

पोषण कितने प्रकार के होते हैं?

जंतुओं में पोषण 2 प्रकार के होते हैं – 

  1. स्वपोषी पोषण या स्वपोषण (Autotrophic Nutrition)
  2. परपोषी या विषमपोषी (Heterotrophic Nutrition) 

स्वपोषी पोषण या स्वपोषण (Autotrophic Nutrition)

ऐसे जीव जो अकार्बनिक यौगिकों, कार्बन डाई ऑक्साइड, जल तथा प्रकाश के माध्यम से अपना भोजन खुद बनाते हैं, स्वपोषी कहलाते हैं तथा यह क्रिया स्वपोषण कहलाती है।

जैसे – पादप तथा कुछ जीवाणु 

स्वपोषी पोषण भी 2 प्रकार के होते हैं –

  1. प्रकाशसंश्लेषी पोषण (Photosynthetic Nutrition)
  2. रसायनसंश्लेषी पोषण (Chemosynthetic Nutrition)

प्रकाशसंश्लेषी पोषण (Photosynthetic Nutrition)

प्रकाशसंश्लेषी पोषण में हरे पौधे, अधिकतर शैवाल व कुछ जीवाणु आते हैं जो सूर्य के प्रकाश व क्लोरोफिल की उपस्थिति में सरल कार्बनिक पदार्थों CO2 व जल से अपना भोजन कार्बोहाइड्रेट्स के रूप में खुद बनाते हैं।

रसायनसंश्लेषी पोषण (Chemosynthetic Nutrition)

रसायनसंश्लेषी पोषण में कुछ जीवाणु सरल कार्बनिक यौगिकों में आक्सीकरण से उत्पन्न ऊर्जा का उपयोग करके अकार्बनिक पदार्थों से अपना कार्बनिक भोजन बनाते हैं, रसायनसंश्लेषी पोषण तथा यह प्रक्रिया रसायन संश्लेषण कहलाती है।

उदाहरण – सल्फर जीवाणु, लौह जीवाणु, हाइड्रोजन जीवाणु आदि। 

परपोषी या विषमपोषी (Heterotrophic Nutrition) 

ऐसे जीव जो अपना भोजन खुद नहीं बना सकते और अपने भोजन के लिए दूसरे जीवों पर निर्भर होते हैं, परपोषी या विषमपोषी (Heterotrophic Nutrition) कहलाते हैं और यह क्रिया परपोषण या विषमपोषण कहलाती है।    

जैसे – सभी जंतु और कवक 

परपोषी या विषमपोषी 5 प्रकार के होते हैं – 

  1. परजीवी (Parasites)
  2. मृतोपजीवी (Saprozoic)
  3. शाकाहारी (Herbivores)
  4. मांसाहारी (Carnivores)
  5. सर्वाहरी (Omnivores)

परजीवी (Parasites) किसे कहते हैं

ऐसे जीव जो दूसरे जंतुओं से अपना भोजन जीवित अवस्था में ही प्राप्त करते हैं, परजीवी जीव कहलाते हैं और पोषण की यह क्रिया परजीवी पोषण कहते है।

  1. बाह्य परजीवी (Ectoparasites) जैसे – मछर, खटमल, जोंक, जू आदि।  
  2. अन्तः परजीवी (Endoparasites) जैसे – फीताकृमि, एस्कारिस, लीवरफ्लूक, फाइलेरिया परजीवी आदि।

मृतोपजीवी (Saprozoic) किसे कहते हैं

ऐसे जीव सड़े-गले कार्बनिक पदार्थों या मृत जंतुओं से अपना भोजन प्राप्त करते हैं, मृतोपजीवी कहलाते हैं।

जैसे – विभिन्न प्रकार के जीवाणु, कवक, एगेरिकस, मोनोट्रोपा आदि।

शाकाहारी (Herbivores) किसे कहते हैं

ऐसे जीव जो वनस्पति जैसे – फल, फूल, पत्ती आदि का सेवन करते हैं, शाकाहारी जंतु कहलाते हैं।

सर्वाहरी (Omnivores) किसे कहते हैं

ये जंतुओं व पौधों दोनों को अपना बनाते हैं।

जैसे- मानव 

पोषण की आवश्यकता 

  • ऊर्जा श्रोत
  • शारीरिक वृद्धि 
  • शरीर में टूट-फूट की मरम्मत 
  • रोगों से प्रतिरक्षा 

FAQ – पोषण किसे कहते हैं 

Q. पोषण शिक्षा क्या है?

Ans. पोषण शिक्षा स्वस्थ खाने के विकल्प और पोषण से संबंधित व्यवहार में मदद करने के लिए डिज़ाइन किए गए सीखने के अनुभवों का एक समूह है। पोषण शिक्षा कई जगहों के माध्यम से वितरित की जाती है और इसमें व्यक्तिगत, समुदाय और नीति स्तरों पर गतिविधियाँ शामिल होती हैं।

Q. पोषण मूल्यांकन से आप क्या समझते हैं?

Ans. पोषण मूल्यांकन मुख्य रूप से डेटा संग्रह पर आधारित होता है जिसमें ‎व्यक्ति का चिकित्सा का इतिहास, भोजन की आदतों और जीवन शैली ‎शामिल है।

Q. पोषण स्तर क्या है?

Ans. किसी व्यक्ति के स्वास्थ्य की स्थिति जो पोषक तत्त्वों के अंर्तग्रहण एवं उपयोग के प्रभाव से होती है, को पोषण स्तर कहा जाता है। हमारा पोषण स्तर सामान्य होता है।

Q. स्वपोषी पोषण क्या है उदाहरण देकर समझाइए?

Ans. ऐसे जीव जो अकार्बनिक यौगिकों, कार्बन डाई ऑक्साइड, जल तथा प्रकाश के माध्यम से अपना भोजन खुद बनाते हैं, स्वपोषी कहलाते हैं तथा यह क्रिया स्वपोषण कहलाती है।

जैसे – पादप तथा कुछ जीवाणु 

यह भी पढ़ें :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *