Piles Kya Hota Hai aur Kaise Hota Hai पूरी जानकारी

क्या आपको पता है कि Piles (बवासीर) Kya Hota Hai और पाइल्स कैसे होता है यदि आप नही जानते तो जल्द ही आप भी जान जायेंगे कि आखिर पाइल्स क्या होता है क्योंकि आज के इस पोस्ट में हम आपको पाइल्स के बारे में बताने वाले है इसलिए इस पोस्ट को पूरा जरूर पढ़ें जिससे आपको भी यह जानकारी हासिल हो जाये।

piles kya hota hai

Piles (बवासीर) Kya Hota Hai | Bawaseer Kya Hota Hai

पाइल्स को हम बवासीर के नाम से भी जानते हैं। बवासीर की बीमारी बहुत ही Common है यह बीमारी मुख्य रूप से 50वर्ष या उससे ज्यादा उम्र के पुरुषों और महिलाओं में मिलती है लेकिन वर्तमान समय में यह बीमारी बच्चों में भी देखने को मिलती है।

Piles (बवासीर) के प्रकार | Piles Kya Hota Hai

बवासीर 2 प्रकार के होते हैं –

  1. अंदरूनी बवासीर (Internal Piles)
  2. बाहरी बवासीर (External Piles)

अंदरूनी बवासीर (Internal Piles)

यह पाइल्स मलाशय (rectum,anus) में होते हैं और ये पीड़ायुक्त (painful) बिलकुल भी नही होते हैं। इसमें छूने से भी रोगी को पता नही चलता कि उसको पाइल्स हुए हैं। रोगी को इसके बारे में तभी पता चलता जब वह शौच करने के लिए जाता है और उसको Bleeding (खून बहना) होती है। अंदरूनी बवासीर का मुख्य लक्षण Bleeding ही है।

बाहरी बवासीर (External Piles)

यह पाइल्स मलाशय में होते हैं और रोगी को काफी दिक्कत देते हैं। ये गाँठ या सूजन (lumps) के रूप में होते हैं जब आप शौच जाते हैं तो उस समय बाहर की तरफ आपको महसूस होंगे आप इनको छू कर महसूस कर सकते हैं। अगर इनकी हालत और ख़राब होती जाती है तो ये thrombosed (घनास्त्र्ता) का रूप ले लेते हैं जिसका रंग बैगनी नीला जैसा होता है और इसके बाद bleeding होने लगती है।

पाइल्स के कारण | Piles Kya Hota Hai Hindi Mein

  • पाइल्स की एक वजह मोटापा भी है।
  • ज़्यादा देर तक खड़े होकर काम करने वालों को भी बवासीर की समस्या हो जाती है।
  • कब्ज की वजह से पेट साफ नहीं होता है और मल त्याग में जोर लगाना पड़ता है जिसकी वजह से पाइल्स की समस्या हो जाती है।
  • प्रेग्नेंसी के दौरान बहुत से महिलाओं को पाइल्स की समस्या हो जाती है।
  • अगर परिवार में किसी को बवासीर है, तो आपको भी बवासीर होने का खतरा बढ़ जाता है।

कैसे जानें कि आपको बवासीर (piles) है?

निचे दिए गये पॉइंट्स को पढ़कर आप पता लगा सकते हैं कि आपको बवासीर है या नहीं –

  • इसका पहला लक्षण है शौच के ठीक बाद गाढ़े लाल रंग की ड्राप का होना।
  • Toilet जाने के बाद वापस से ऐसा लगना कि आपको दोबारा toilet जाना है।
  • अंडर वियर में या टॉयलेट पेपर पर mucus (कफादि मल) लगा होना।
  • मलासय में खुजली होना।
  • मलासय में दर्द होना और मलासय के आस-पास गाँठ का महसूस होना।

घर पर बवासीर का इलाज कैसे कर सकते हैं?

Bawaseer Ka Ilaj Ghar Par Kaise Kare :

  • सबसे पहले आप अपने भोजन में fibre डालें जैसे – हरी सब्जी और फल।
  • ज्यादा से ज्यादा पानी पियें।
  • शौच करते समय बहुत ज्यादा दबाव न डालें।
  • शौच के समय बहुत देर तक न बैठें अगर आपको इस दौरान काफी दर्द महसूस हो रहा हो तो आप मलहम का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • अगर बवासीर से आपको काफी दर्द हो रहा है तो आप गुनगुने पानी से नहा भी सकते हैं या sitz-bath (एक टब में गुनगुना लेकर थोड़ी देर बैठना) कर सकते हैं इससे आपको काफी आराम मिलेगा।

Piles (Bawaseer) Kya Hota Hai | Piles Kise Kahate Hain – Video Guide

बवासीर से जुड़े —- FAQ

Q. पाइल्स की बीमारी क्यों होती है, पाइल्स कैसे बनता है?

Ans.

  • पाइल्स की एक वजह मोटापा भी है।
  • ज़्यादा देर तक खड़े होकर काम करने वालों को भी बवासीर की समस्या हो जाती है।
  • कब्ज की वजह से पेट साफ नहीं होता है और मल त्याग में जोर लगाना पड़ता है जिसकी वजह से पाइल्स की समस्या हो जाती है।
  • प्रेग्नेंसी के दौरान बहुत से महिलाओं को पाइल्स की समस्या हो जाती है।

Q. बवासीर के मस्सों पर क्या लगाना चाहिए?

Ans. अरंडी का तेल या नीम का तेल मस्सों पर लगाने और इस तेल की 4-5 बूंद रोज पीने से बवासीर में फायदा होता है।

Conclusion

उम्मीद करते हैं आपको हमारी इस पोस्ट Piles Kya Hai, Piles Kaise Hota Hai से काफी कुछ सीखने को मिला होगा अगर आपको यह जानकारी Piles Matlab Kya Hota Hai अच्छी लगी तो इसे शेयर करना न भूलें। 

यह भी पढ़ें :

Check Also

om ka niyam kya hai | om ke niyam in hindi

Om Ka Niyam Kya Hai – परिभाषा, सूत्र तथा ओम का सिद्धांत

Om ka niyam kya hai, om ka niyam kise kahate hain, om ka niyam in …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *