Bhasha Kise Kahate Hain | भाषा के कितने रूप होते हैं

Bhasha Kise Kahate Hain, भाषा के कितने अंग होते हैं, Bhasha Ke Kitne Roop Hote Hain

Hindi Vyakaran की इस सीरीज में Bhasha Ki Paribhasha, Bhasha Kise Kahate Hain इसके कितने प्रकार होते हैं, Bhasha Ke Roop, लिपि किसे कहते हैं को उदाहरण सहित बिलकुल ही आसान तरीके से सीखेंगे।

bhasha kise kahate hain

Bhasha Kise Kahate Hain | Bhasha Ke Kitne Roop Hote Hain

भाषा एक ऐसा साधन है जिसके द्वारा मनुष्य बोलकर, सुनकर, लिखकर व पढ़कर अपने भावों या विचारों समझा सके और दूसरों के भावों या विचारों को समझ सके, उसे भाषा कहते हैं।

Bhasha Ke Kitne Roop Hote Hain | भाषा कितने प्रकार के होते हैं

भाषा के 3 रूप / प्रकार  होते हैं –

  1. मौखिक भाषा
  2. लिखित भाषा
  3. सांकेतिक भाषा

मौखिक Bhasha Kise Kahate Hain

जिस ध्वनि का उच्चारण करके या बोलकर हम अपनी बात को दूसरों को समझाते हैं, उसे मौखिक भाषा कहते हैं।

उदाहरण –

टेलीफोन, दूरदर्शन, भाषण, रेडियो आदि।

मौखिक भाषा की कुछ प्रमुख विशेषताएं –

  1. यह भाषा का स्थायी रूप है।
  2. उच्चरित होने के साथ ही यह समाप्त हो जाती है।
  3. बोलने और सुनने वाला एक-दुसरे के सामने हों तभी मौखिक भाषा का इस्तेमाल किया जा सकता है।
  4. यह भाषा का मूल या प्रधान रूप है।

लिखित भाषा कहते हैं

जिन अक्षरों या चिन्हों की मदद से हम अपने मन के विचारों को लिखकर प्रकट करते हैं, उसे लिखित भाषा कहते हैं।

उदाहरण –

पत्र, लेख, कहानी, जीवनी, तार आदि ।

लिखित भाषा की कुछ प्रमुख विशेषताएं –

  1. यह भाषा का स्थायी रूप है।
  2. बोलने और सुनने वाला एक-दुसरे के सामने न हों तब भी लिखित भाषा का इस्तेमाल किया जा सकता है।
  3. इस रूप की इकाई वर्ण है जो उच्चारित ध्वनियों को अभिव्यक्त करते हैं।
  4. यह भाषा का गौण रूप है।

सांकेतिक भाषा किसे कहते हैं

जब इशारों द्वारा बात समझी या समझाई जाती है तो उसे सांकेतिक भाषा कहते हैं।

उदाहरण –

ट्रैफिक पुलिस का संकेतों द्वारा यातायात पर नियंतरण करना।

गूंगे व्यक्तियों द्वारा इस्तेमाल की जाने वाली इशारों वाली भाषा।

भाषा के विविध रूप

  1. बोलियाँ
  2. परिनिष्ठित भाषा
  3. राष्ट्रभाषा

बोलियाँ

जिन स्थानीय बोलियों का इस्तेमाल अपने घरों या समूह में करते हैं, उसे बोली कहते हैं।

जैसे –

भोजपुरी, तेलगु, इंग्लिश, मराठी, अवधी आदि।

परिनिष्ठित भाषा

यह व्याकरण से नियंत्रित होती है। इसका इस्तेमाल शिक्षा, शासन, और साहित्य में होता है। खड़ीबोली कभी बोली थी, आज परिनिष्ठित भाषा बन गयी है। जिसका प्रयोग भारत में सभी स्थानों पर होता है।

राष्ट्रभाषा

वह भाषा जो देश के अधिकतर निवासियों द्वारा प्रयोग में लायी जाती है। राष्ट्रभाषा कहलाती है।

सभी देशों की अपनी-अपनी राष्ट्रभाषा होती है।

जैसे –

अमेरिका – अंग्रेजी, चीन – चीनी, जापान – जापानी, रूस – रूसी आदि।

भारत की राष्ट्रभाषा हिंदी है। यह लगभग 70 – 75 % लोगों द्वारा प्रयोग में लायी जाती है।

Lipi Kise Kahate Hain | लिपि किसे कहते हैं

विचारों का लीपना अथवा लिखना ही लिपि कहलाता है।

विश्व की कुछ भाषाएँ और उनकी लिपियाँ के नाम नीचे तालिका में दिए हैं –

क्रम

भाषा

लिपियाँ

1

हिंदी, संस्कृत, मराठी, नेपाली, बोडो

देवनागरी

2

अंग्रेजी, फ्रेंच, जर्मन, स्पेनिश, इटेलियन, मिजो

रोमन

3

पंजाबी

गुरुमुखी

4

उर्दू, अरबी, फारसी

फारसी

5

रूसी, रोमानियन, चेक

रूसी

6

बंगला

बंगला

7

उड़िया

उड़िया

8

असमिया

असमिया

भाषा किसे कहते हैं (Bhasha Kise Kahate Hain) | Bhasha Ke Kitne Roop Hain – Video Guide

भाषा से सम्बंधित प्रश्न –

भाषा किसे कहते हैं इसके कितने भेद हैं?

भाषा एक ऐसा साधन है जिसके द्वारा मनुष्य बोलकर, सुनकर, लिखकर व पढ़कर अपने भावों या विचारों समझा सके और दूसरों के भावों या विचारों को समझ सके, उसे भाषा कहते हैं।
भाषा के 3 भेद / रूप / प्रकार  होते हैं –
1. मौखिक भाषा
2. लिखित भाषा
3. सांकेतिक भाषा

मौखिक भाषा क्या होती है?

जिस ध्वनि का उच्चारण करके या बोलकर हम अपनी बात को दूसरों को समझाते हैं, उसे मौखिक भाषा कहते हैं।

लिपि की परिभाषा क्या है?

विचारों का लीपना अथवा लिखना ही लिपि कहलाता है।

यह भी पढ़ें :

Check Also

Barakhadi in Hindi to English | हिंदी बारहखड़ी

Barakhadi in Hindi to English | हिंदी बारहखड़ी

barakhadi in hindi to english, Barakhadi Chart, barakhadi chart hindi to english, barakhadi in english, …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *